BEWAFA SHAYARI IN HINDI || बेवफा शायरी

0
28
BEWAFA SHAYARI IN HINDI
BEWAFA SHAYARI IN HINDI

BEWAFA SHAYARI IN HINDI – धोखा हमेशा विश्वास में लिपटा रहता है । जहां विश्वास होगा धोका भी वहीं मिलेगा , अविश्वास करने वाले व्यक्ति धोखा बहुत कम खाते हैं और खाते भी है तो तकलीफ बहुत कम होती हैं ।

उसी तरह प्रेम करते हुए इस बात के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए कि जरूरी नहीं प्रेम में हमेशा वफा ही मिले , बेवफ़ाई भी मोहब्बत का एक परिणाम है । शायर इस बात को कई तरह से समझते हैं । शेरो – शायरी की इस श्रृंखला में आज हम आपके लिए कुछ BEWAFA SHAYARI IN HINDI लेकर आए हैं ।

BEWAFA SHAYARI IN HINDI

उसकी मोहब्बत का सिलसिला भी क्या अजीब था,
अपना भी नही बनाया और किसी और का भी ना होने दिया।

वो बिछड़ के हमसे ये दूरियां कर गई,
न जाने क्यों ये मोहब्बत अधूरी कर गई,
अब हमे तन्हाइयां चुभती है तो क्या हुआ,
कम से कम उसकी सारी तमन्नाएं तो पूरी हो गई

मेरा जूनून मेरी दीवानगी मेरी इन्तहा हो तुम
तुम्हे भला कैसे समझाए मेरे लिए क्या हो तुम

कभी फुर्सत मिले तो सोचना जरूर,
एक लापरवाह लड़का क्यों तेरी परवाह करता था…

रहता तो नशा तेरी यादों का ही है,
कोई पूछे तो कह देता हूँ पी राखी है।

मत पूछ मुझे………, क्या गम है!
तेरे वादे पे ज़िंदा हूँ, क्या कम है!!

वो सोचती होगी बड़े चैन से सो रहा हूँ मैं,
उसे क्या पता ओढ़ के चादर रो रहा हूँ मैं।

मुझे जिस चिराग से प्यार था…
मेरा सब कुछ उसी ने जला दिया…

निकाल दिया उसने हमें अपनी जिंदगी से,
भीगे कागज़ की तरह, न लिखने के काबिल छोड़ा न जलने के।

हम तो नरम पत्तों की शाख़ हुआ करते थे,
छीले इतने गए कि “खंज़र ” हो गए…

वजह तक पूछने का मौका ही ना मिला,
बस लम्हे गुजरते गए और हम अजनबी होते गए।

निकले हम दुनिया की भीड़ में तो पता चला की…
हर वह शख्स अकेला है, जिसने मोहब्बत की है!

अब मोहब्बत नहीं रही इस जमाने में,
क्योंकि लोग अब मोहब्बत नहीं मज़ाक किया करते है।

BEWAFA SHAYARI IN HINDI 2021

BEWAFA SHAYARI IN HINDI
BEWAFA SHAYARI IN HINDI

पलकों की हद तोड़ के, दामन पे आ गिरा,
एक आसूं मेरे सब्र की, तोहीन कर गया।

अच्छा है आँसुओं का रंग नहीं होता,
वरना सुबह के तकिये रात का हाल बयां कर देते।

टूटे हुए दिल भी धड़कते है उम्र भर,
चाहे किसी की याद में या फिर किसी
फ़रियाद में!! टूट कर चाहना और फिर टूट जाना,
बात छोटी है मगर जान निकल जाती है।

हर दर्द का इलाज़ मिलता था जिस बाज़ार में,
मोहब्बत का नाम लिया तो दवाख़ाने बन्द हो गये!!
अभी एक टूटा तारा देखा, बिलकुल मेरे जैसा था,
चाँद को कोई फर्क न पड़ा, बिलकुल तेरे जैसा था।

छोड़कर अपनी यादों की निशानियां मेरे दिल में,
वो भी चले गये वक्त की तरह।

सजा ये है की बंजर जमीन हूँ मैं,
और जुल्म ये है की बारिशों से इश्क़ हो गया।

तरस आता है मुझे अपनी, मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती हैं कि अब, रोया नहीं जाता।
फ़रियाद कर रही है तरसी हुई निगाहें,
किसी को देखे एक अरसा हो गया।

न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई, न वो वापस लोटी,
न मोहब्बत दोबारा हुई.. हमें देख कर जब उसने मुँह मोड़ लिया,
एक तसल्ली हो गयी चलो पहचानते तो हैं।

मैं तो रह लूंगा तुझसे बिछड़ कर तन्हा भी,
बस दिल का सोचता हूँ, कहीं धडकना न छोड़ दे!!
सिर्फ हम ही है तेरे दिल में,
बस यही गलतफहमी हमें बर्बाद कर गई।

BEWAFA SHAYARI IN HINDI

छोड़ दिया हमने तेरे ख्यालों में जीना,
अब हम लोगों से नहीं, लोग हमसे मोहब्बत करते है।
मोहब्बत नही तो मुकदमा हि दायर कर दे जालिम,
तारीख दर तारीख तेरा दीदार तो होगा।

मुस्कुराने की आदत भी कितनी महँगी पड़ी हमे,
छोड़ गया वो ये सोच कर की हम जुदाई मे भी खुश हैं!!

दुआ करना दम भी उसी तरह निकले,
जिस तरह तेरे दिल से हम निकले।

तलब ऐसी कि अपनी सांसों में समा लू तुझे,
किस्मत ऐसी कि देखने को भी मोहताज हूँ तुझे!!
दर्द मुझको ढूंढ लेता है, रोज नए बहाने से, वो हो गया वाकिफ़,
मेरे हर ठिकाने से।

रहेगा किस्मत से यही गिला ज़िंदगी भर,
जिसको पल-पल चाहा उसी को पल-पल तरसे!!
कत्ल हुआ हमारा इस तरह किस्तों में,
कभी खंजर बदल गए, कभी कातिल बदल गए।

कल रात का आलम इस कदर था यारो,
उसकी यादों ने मेरी आँखो को सोने ना दिया!!
रात तकती रही आँखो में, दिल आरजू करता रहा,
कोई बे-सबर रोता रहा, कोई बे-खबर सोता रहा..!!

बहुत मासूम होते है ये आँसू भी,
ये गिरते उनके लिए है, जिन्हें परवाह नहीं होती।
खता उनकी भी नहीं है वो क्या करते,
हजारों चाहने वाले थे किस-किस से वफ़ा करते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here